ITI COPA

DOS Overview Hindi Disk Operating System

Computer Hindi Notes | Disk Operating System (DOS)

 डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (डॉस) का परिचय | Introduction to Disk Operating System (DOS)

What is Disk Operating System? DOS Hindi Notes

कम्प्यूटर से कोई काम कराने के लिए हमें पूरे और सही आदेश देने पड़ते हैं । ये आदेश किसी ऐसी भाषा में होने चाहिए जिसे कम्प्यूटर समझ सके। कम्प्यूटर वास्तव में केवल ऑपरेटिंग सिस्टम की भाषा समझता है। ऑपरेटिंग सिस्टम ही कम्प्यूटर का सुपरवाइजर या मैनेजर है । इसलिए हम अपने आदेश अपनी भाषा में कम शब्दों में ऑपरेटिंग सिस्टम को देते हैं, जिनको वह कम्प्यूटर की भाषा में बदलकर उसे भेज देता है। यदि हमारे और कम्प्यूटर के बीच में ऑपरेटिंग सिस्टम न हो तो हम कम्प्यूटर से कोई काम नहीं करा सकेगें ।

1- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (डॉस) | Disk Operating System (DOS)


डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) सबसे पहले IBM कंपनी द्वारा अपने कंप्यूटर्स के लिए प्रयुक्त पहला ऑपरेटिंग सिस्टम था। यह मूल रूप से दो संस्करणों में उपलब्ध था जो एक समान थे, लेकिन दो अलग-अलग नामों के तहत उपलब्ध कराए गए था। PC-DOS आईबीएम द्वारा विकसित संस्करण था एवं MS-DOS, Microsoft द्वारा उपलब्ध कराया गया था। कम्प्यूटर अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के नियंत्रण में ही काम करता है । पीसी के लिए भी ऑपरेटिंग सिस्टम की जरूरत होती है। जो ऑपरेटिंग सिस्टम अपने काम में बार-बार डिस्क की मदद लेता है, उसे डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम या डॉस (DOS) कहा जाता है।
आई.बी.एम. के पर्सनल कम्प्यूटरों के लिए माइक्रो सॉफ्ट नामक कम्पनी ने जो ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया उसे पर्सनल कम्प्यूटर-डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम या पीसी- डॉस (PC-DOS) कहा गया है । बाद में माइक्रो सॉफ्ट नामक कम्पनी ने आईबीएम-पीसी कॉम्पैटीबल कम्प्यूटरों के लिए जो ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार किया उसका नाम माइक्रोसॉफ्ट-डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम या एमएस-डॉस (MS-DOS) रखा ।

Back to Contents

2- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) का महत्त्व | Importance of Disk Operating System (DOS)


डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) एक कमांड लाइन या टेक्स्ट-आधारित इंटरफ़ेस का उपयोग करता है, जो उपयोगकर्ता को कमांड टाइप करने की अनुमति देता है। Pwd (प्रिंट वर्किंग डायरेक्टरी) और cd (चेंज डायरेक्टरी) जैसे सरल निर्देशों को टाइप करके, उपयोगकर्ता हार्ड ड्राइव पर फाइलें ब्राउज़ कर सकते हैं, फाइलें खोल सकते हैं और प्रोग्राम चला सकते हैं। डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) की कमांड्स टाइप करने के लिए आसान एवं सरल हैं । लेकिन इस ऑपरेटिंग सिस्टम की कमांड्स को नए सीखने वालों के लिए उपयोग करना मुश्किल होता है, इसी वजह से बाद में माइक्रोसॉफ्ट ने ग्राफिक आधारित विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) जोड़ दिया।
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) का उपयोग किसी सिस्टम या कंप्यूटर को संचालित करने के लिए किया जाता है। यह कंप्यूटर प्रोग्राम का एक सेट है जिसके मुख्य कार्य डिस्क फ़ाइलों को मैनेज करना, आवश्यकता के अनुसार सिस्टम संसाधनों को आवंटित करना है। डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) कीबोर्ड, स्क्रीन, डिस्क डिवाइस, प्रिंटर, मोडेम और प्रोग्राम जैसे हार्डवेयर उपकरणों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक सुविधाएँ प्रदान करता है।
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) वह माध्यम है जिसके माध्यम से सिस्टम से जुड़े उपयोगकर्ता और बाहरी उपकरण कंप्यूटर सिस्टम के साथ संवाद (Communication) करते हैं। DOS कंप्यूटर द्वारा समझे जाने वाले लैंग्वेज में उपयोगकर्ता द्वारा जारी किए गए आदेश का अनुवाद करता है और कंप्यूटर को उसी के अनुसार काम करने का निर्देश देता है। यह उपयोगकर्ता को समझने योग्य परिणाम और किसी भी त्रुटि संदेश का भी अनुवाद करता है।

Back to Contents


3- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य | Functions of Disk Operating System (DOS)


एक ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर प्रोग्राम का एक समूह है जो कंप्यूटर हार्डवेयर उपकरणों के बीच सभी गतिविधियों का समन्वय करता है। यह एक बूट प्रोग्राम द्वारा कंप्यूटर में लोड किया गया पहला प्रोग्राम है और हर समय मेमोरी में बना रहता है।
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम के मूल कार्य हैं:
कंप्यूटर को बूट करना
कंप्यूटर को शुरू करने या फिर से शुरू करने की प्रक्रिया को बूटिंग के रूप में जाना जाता है। बूटिंग दो प्रकार की होती है- कोल्ड बूट एवं वार्म बूट. कोल्ड बूट तब होता है जब आप उस कंप्यूटर को चालू करते हैं जिसे पूरी तरह से बंद कर दिया गया है एवं वार्म बूट कंप्यूटर को पुनःआरंभ या रीस्टार्ट करने के लिए उपयोग किया जाता है।
बेसिक कंप्यूटर कार्य
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम बेसिक कंप्यूटर कार्य जैसे कि माउस, कीबोर्ड और प्रिंटर जैसे विभिन्न पेरिफेरल उपकरणों का प्रबंधन। उदाहरण के लिए एक प्रिंटर जैसे डिवाइस को उपयोग करने के लिए कॉन्फ़िगर करना।
यूजर इंटरफेस
यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के इंटरफ़ेस के माध्यम से सॉफ्टवेयर के साथ इंटरैक्ट करता है। उपयोगकर्ता इंटरफेस के दो मुख्य प्रकार हैं: कमांड लाइन और एक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (जीयूआई)।
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) कमांड लाइन इंटरफेस के साथ, उपयोगकर्ता को विशिष्ट कार्यों को करने के लिए कमांड टाइप करके ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ इंटरैक्ट करने की सुविधा प्रदान करता है।
सिस्टम रिसोर्सेज का उपयोग
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) विभिन्न एप्लीकेशन या पेरिफेरल उपकरणों द्वारा सिस्टम संसाधन जैसे कंप्यूटर की मेमोरी और सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) आदि को शेयर एवं मैनेज करना भी संभालता है। ऑपरेटिंग सिस्टम यह सुनिश्चित करता है कि प्रत्येक एप्लिकेशन को पूरी कार्यक्षमता के साथ काम करने के लिए आवश्यक संसाधन मिलते रहें।
फ़ाइल मैनेजमेंट
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) कंप्यूटर डिस्क में सेव की गई फ़ाइलों और डायरेक्टरी के संगठन और ट्रैकिंग को भी संभालता है। फ़ाइल मैनेजमेंट प्रणाली उपयोगकर्ता को फ़ाइलों और निर्देशिकाओं को बनाने, फ़ाइलों का नाम बदलने, फाइलों को कॉपी करने और स्थानांतरित करने और फ़ाइलों को हटाने जैसे कार्यों को करने की अनुमति देती है। डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम फाइल एलोकेशन टेबल (FAT) के माध्यम से डिस्क में फाइल सिस्टम को ट्रैक करता है।


Back to Contents

4- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (डॉस) बूटिंग प्रोसेस | Disk Operating System (DOS) Booting Process


कंप्यूटर को स्टार्ट करने की प्रक्रिया को बूटिंग के रूप में जाना जाता है। बूटिंग दो प्रकार की होती है- कोल्ड बूट एवं वार्म बूट. कोल्ड बूट तब होता है जब आप उस कंप्यूटर को चालू करते हैं जिसे पूरी तरह से बंद कर दिया गया है एवं वार्म बूट कंप्यूटर को पुनःआरंभ या रीस्टार्ट करने के लिए उपयोग किया जाता है।
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) को स्टार्ट करने के लिए मुख्य रूप से तीन फाइलें उपयोग में लाई जाती हैं - command.com, io.sys एवं msdos.sys.
ये फाइल्स किसी भी कंप्यूटर को डॉस द्वारा बूट कराने के लिए आवश्यक होती हैं। जब पीसी की बूटिंग की जाती है तो एमएस-डॉस रूट डायरेक्ट्री में एक फाइल की खोज करता है जिसका नाम है – AUTOEXEC.BAT
यह एक बैच फाइल है, जिसमें कुछ ऐसे आदेश होते हैं, जिन्हें आप पीसी चालू करते ही उनका पालन कराना चाहते हैं । उदाहरण के लिए, आप चाहते हैं कि बूटिंग के बाद तारीख और समय सेट किया जाए या यह बताना चाहते हैं कि अगर कोई फाइल कहीं न मिले तो उसे किस डायरेक्ट्री में ढूंढना है आदि । एक साधारण AUTOEXEC.BAT फाइल में निम्नलिखित आदेश होते हैं – DATE TIME PROMPT $P$G PATH = C:\DOS;C:\WS;C:\WINDOWS


Back to Contents

5- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (डॉस) कमांड्स | Disk Operating System (DOS) Commands


डॉस कमांड, डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम में उपलब्ध कमांड हैं जो ऑपरेटिंग सिस्टम और अन्य कमांड लाइन आधारित सॉफ्टवेयर के साथ कार्य करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। डॉस कमांड्स को डॉस प्रोम्प्ट "C:\>" पर कमांड को टाइप करके प्रयोग किया जाता है.

DOS Command Prompt

एमएस-डॉस कमांड्स दो प्रकार के होते हैं :-
♦ इंटरनल डॉस कमांड्स
♦ एक्सटर्नल डॉस कमांड्स



Back to Contents

6- इंटरनल डॉस कमांड्स | Internal (DOS) Commands


इंटरनल डॉस कमांड्स ऐसे आदेश है जो एमएस-डॉस की मुख्य फाइल Command.com में पहले से होते हैं क्योंकि ये सबसे महत्वपूर्ण हैं और बार-बार देने पड़ते हैं।
ये आदेश कम्प्यूटर की मुख्य मेमोरी में हर समय उपलब्ध रहते हैं तथा इन्हें चलाने के लिए किसी और फाइल की आवश्यकता नहीं होती है इसलिए इन्हें आन्तरिक आदेश कहा जाता है।
एमएस-डॉस संस्करण 6.0 के आन्तरिक आदेश निम्नलिखित हैं -
BREAK, COPY, ERASE, LOADHIGH, RD, SHIFT, CALL CTTY, EXIT, MD, REM, TIME, CD, DATE, FOR, MKDIR, REN, TYPE, CHCP, DEL, GOTO, PATH, RENAME, VER, CHDIR, DIR, IF, PAUSE, RMDIR, VERIFY, CLS, ECHO, LH, PROMPT, SET, VOL.

Back to Contents

7- एक्सटर्नल डॉस कमांड्स | External (DOS) Commands

एक्सटर्नल डॉस कमांड्स ऐसे आदेश हैं जो कम्प्यूटर की मुख्य मैमोरी में उपलब्ध नहीं रहते बल्कि अलग प्रोग्राम फाइलों के रूप में डिस्क पर स्टोर रहते हैं। जैसे ही आप कोई बाह्य कमांड देते हैं, कमान्ड प्रोसेसर उसकी सम्बन्धित फाइल को डिस्क पर ढूंढता है और मिल जाने पर मैमोरी में लोड कर देता है । इसके साथ ही उस कमान्ड का पालन शुरू हो जाता है। एक्सटर्नल डॉस कमांड्स चलाने के लिए यह आवश्यक है कि इनका संस्करण वही होना चाहिए जो आपके एमएस-डॉस का है, नहीं तो ‘Incorrect Version’ अर्थात् ‘गलत संस्करण’ का संदेश आएगा और आदेश रद्द हो जाएगा।
एमएस-डॉस के मुख्यबाह्य आदेश निम्नलिखित हैं :-
APPEND, DOSKEY, HELP, MOVE, SORT, ATTRIB, DOSSHELL, KEYB, MSAV, SYS, CHKDSK, EXPAND, LABEL, NLSFUNC, TREE, DELTREE, FASTOPEN, MEM, MSBACKUP, UNDELETE, DISKCOMP, FORMAT, MEMMAKER, PRINT, XCOPY, DISKCOPY, GRAPHICS, MORE, RESTORE

Back to Contents


ऑपरेटिंग सिस्टम हिंदी नोट्स || Opearting System Hindi Notes



Tags - What is MS DOS? How to use Microsoft Disk Operating System? How to Open DOS in Windows? Different DOS Commands? Internal and External DOS Commands. Using DOS Commands for File Management. Different DOS Commands .
डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) के क्या उपयोग है? कम्प्युटर में डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) को कैसे प्रयोग करें? डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) में फाईल बनाना, सेव करना, फाइल देखने हेतु कमांड्स. डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS) की कमांड्स को प्रयोग कैसे करें? डॉस (DOS) क्या है ? DOS full form. What is Dos in Hindi. एमएस डॉस का उपयोग कैसे करें? Internal & External DOS Commands in Hindi. MS DOS commands in Hindi. Computer Hindi Notes PDF Books Downloads. डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम इन हिंदी.



 

||    Theory    ||    Practicals    ||    Video Tutorials    ||    Online Test Series   ||