ITI COPA

input device hindi notes


Input Device Hindi Notes

इनपुट डिवाइस (Input Device)

वे डिवाइस जिनके द्वारा हम अपने डाटा या निर्देशों को कंप्यूटर में इनपुट करा सकते हैं इनपुट डिवाइस कहलाते हैं। कंप्यूटर में कई इनपुट डिवाइस होते है ये डिवाइस कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए भी प्रयोग किए जाते हैं इनपुट डिवाइस कई प्हैरकार के होते हैं तथा सभी किसी विशिष्ट उद्देश्य के लिए उपयोगी हैं जैसे टाइपिंग के लिये हमारे पास की-बोर्ड होते हैजो हमारे निर्देशों को टाइप करते हैं। इसी प्रकार माउस पोइंटिंग डिवाइस है जिसके द्वारा किसी  ऑब्जेक्ट पर क्लिक करके निर्देश दिए जाते हैं  

“इनपुट डिवाइस वे डिवाइस हैं जो हमारे निर्देशों या आदेशों को कंप्यूटर के मष्तिष्कसी.पी.यू. (C.P.U.) तक पहुचाते हैं।

इनपुट डिवाइस कई प्रकार के होते है जो निम्न प्रकार है –

·      Keyboard

·       Mouse

·       Joystick

·       Trackball

·       Light pen

·       Touch screen

·       Scanner

·       Digitizer Tablet

·       Bar-Code Reader

·       OMR

·       OCR

·       MICR

  

की-बोर्ड (Keyboard)

की-बोर्ड कंप्यूटर का एक पेरिफेरल है जो आंशिक रूप से टाइपराइटर के की-बोर्ड की भांति होता हैं। की-बोर्ड को टेक्स्ट तथा कैरेक्टर इनपुट करने के लिये डिजाइन किया गया हैं। भौतिक रूप सेकंप्यूटर का की-बोर्ड आयताकार होता हैं। की-बोर्ड सबसे सामान्य इनपुट उपकरण है। की-बोर्ड के कई प्रकार उपलब्ध हैं। सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला की-बोर्ड QWERTY कीबोर्ड है। की-बोर्ड में लगभग 108 Keys होती हैं। 


की-बोर्ड में कई प्रकार की कुंजियाँ (Keys) होती है जैसे- अक्षर (Alphabet), नंबर (Number), चिन्ह (Symbol), फंक्शन की (Function Key), एर्रो की (Arrow Key) व कुछ विशेष प्रकार की Keys भी होती हैं। की-बोर्ड की संरचना के आधार पर इनको छ: भागो में बाँट सकते है-

1.  एल्फानुमेरिक की (Alphanumeric Keys)

2.  न्यूमेरिक की (Numeric Keys)

3.  फंक्शन कीज   (Function Keys)

4.  विशिष्ट उददेशीय की (Special Purpose Keys)

5.  मॉडिफायर की  (Modifier Keys)

6.  नेविगेशन की (Navigation Keys)

 

एल्फानुमेरिक की (Alphanumeric Keys) 

एल्फान्यूमेरिक Keys की-बोर्ड के केन्द्र में स्थित होती हैं। एल्फान्यूमेरिक  Keys में Alphabets (A-Z), Number (0-9), Symbol (@, #, $, %, ^, *, &, +, !, = ), होते हैं। इसमें अंकोचिन्होंतथा वर्णमाला के अतिरिक्त चार कुंजियाँ Tab, Caps, Backspace तथा Enter कुछ विशिष्ट कार्यों के लिये होती हैं।

 न्यूमेरिक की-पैड (Numeric Keypad)

न्यूमेरिक की-पैड (Numeric Keypad) में लगभग 17 कुंजियाँ होती हैं। जिनमे 0-9 तक के अंकगणितीय ऑपरेटर (Mathematic operators) जैसे- +, -. *, / तथा Enter key होती हैं ।

 फंक्शन की (Function Keys)

की-बोर्ड के सबसे ऊपर संभवतः ये 12 फंक्शन कुंजियाँ होती हैं। जो F1, F2……..F12 तक होती हैं। ये की (Keys) निर्देशों को शॉर्ट-कट के रूप में प्रयोग करने में सहायक होती हैं। इन Keys के कार्य सॉफ्टवेयर के अनुरूप बदलते रहते हैं।

 विशिष्ट उद्देशीय की (Special Purpose Keys)

ये की (Key) कुछ विशेष कार्यों को करने के लिये प्रयोग की जाती है। जैसे- Sleep, Power, Volume, Start, Shortcut, Esc, Tab, Insert, Delete, इत्यादि। ये कुंजियाँ नये ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ विशेष कार्यों के अनुरूप होती हैं।

मॉडिफायर कुंजियाँ (Modifier Keys)

इसमें तीन कुंजियाँ होती हैंजिनके नाम SHIFT, ALT, CTRL हैं। इनको अकेला दबाने पर कोई खास प्रयोग नहीं होता हैंपरन्तु जब अन्य किसी की (Key) के साथ इनका प्रयोग होता हैं तो ये उन कुंजियो के इनपुट को बदल देती हैं। इसलिए ये मॉडिफायर की (Key) कहलाती हैं। 

 नेविगेशन की (Navigation Keys) 

ये चार प्रकार की Keys होती हैं UP, DOWN, LEFT तथा RIGHT। इनको कर्सर की भी कहा जाता हैइनका प्रयोग कर्सर को स्क्रीन पर मूव कराने के लिए किया जाता है। इसके अलावा Home, End, PageUP, PageDown की भी होती हैं जो कर्सर की के ऊपर स्थित होती हैं इनका उपयोग भी डॉक्यूमेंट में कर्सर मूवमेंट के लिए किया जाता है।  

  

माउस (Mouse)

What is Mouseवर्तमान समय में माउस सर्वाधिक प्रचलित पोइंटिंग डिवाइस हैजिसका प्रयोग ग्राफिक्स (Graphics) बनाने के साथ साथ किसी बटन (Button) या मेन्यू (Menu) पर क्लिक करने के लिये किया जाता है। इसकी सहायता से हम की-बोर्ड का प्रयोग किये बिना अपने पी.सी. को नियंत्रित कर सकता है ।

इसका उपयोग प्वाइंटर की तरह किया जाता है। इसके द्वारा विभिन्न कार्य किए जा सकते हैं जैसे कि मेन्यू कमांड का चयन करनाआइकन को स्थानांतरित करनाविंडोज़ के आकार में परिवर्तन लानाप्रोग्राम प्रारंभ करना और विकल्पों का चयन करना।

आजकल सभी विंडोज़-आधारित एप्लिकेशनस माउस के साथ कार्य करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। कठिनता से याद रखे जाने वाले की-कॉम्बिनेशन  (key-combinations) को आसान ‘प्वांइट एवं क्लिक’ (point and click) करने के लिए माउस का उपयोग किया जाता है।

माउस में दो बटन तथा एक व्हील होता है जिनकी सहायता से कंप्यूटर को निर्देश दिये जाते है। माउस को हिलाने पर स्क्रीन पर Pointer Move करता है। माउस के व्हील का प्रयोग स्क्रीन को स्क्रॉल करने के लिए किया जाता है।

माउस के कार्य:-

·         क्लिकिंग (Clicking)

·         डबल क्लिकिंग (Double Clicking)

·         दायाँ क्लिकिंग (Right Clicking)

·         ड्रैगिंग (Dragging)

·         स्क्रोलिंग (Scrolling)

  

जॉयस्टिक (Joystick)

What is Joystick
जॉयस्टिक  मुख्य रूप से  कंप्यूटर पर गेम्स अथवा वीडियोगेम्स खेलने के काम आने वाला इनपुट डिवाइस (Input Device) है। वैसे तो कंप्यूटर के गेम्स की-बोर्ड द्वारा खेले जा सकते है परन्तु कुछ गेम्स को सुविधाजनक रूप से खेलने के लिए जॉयस्टिक का प्रयोग किया जाता है। विभिन्न गेम्स की आवश्यकतानुसार जॉय स्टिक भी अलग अलग प्रकार के उपयोग किए जाते हैं। 

ट्रैकबॉल (Trackball)

What is Trackball

ट्रैकबॉल भी एक पोइंटिंग डिवाइस हैजो माउस (Mouse) की तरह ही कार्य करती है। इसमें गेंद माउस की तरह नीचे ना होते हुए ऊपर की तरफ होती है तथा कुछ बटन होते है। सामान्यतः पकड़ते समय गेंद पर आपका अंगूठा होता है तथा आपकी उंगलियों उसके बटन पर होती है। स्क्रीन पर पॉइंटर (Pointer) को घुमाने के लिये गेंद को घुमाया जाता है।

ट्रैकबॉल  को माउस की तरह घुमाने की आवश्यकता नहीं होती इसलिये यह अपेक्षाकृत कम जगह लेता है। इसका प्रयोग Laptop अथवा टेबलेट में किया जाता हैं ।


लाइट पेन (Light Pen)

What is light pen

लाइट पेन (Light Pen) का प्रयोग कंप्यूटर स्क्रीन पर कोई चित्र या ग्राफिक्स बनाने में किया जाता है। लाइट पेन एक लाइट सेंसिटिव पेन होता है। अतः लाइट पेन का प्रयोग ऑब्जेक्ट के चयन के लिये होता है। लाइट पेन की सहायता से बनाया गया कोई भी ग्राफिक्स कंप्यूटर पर संग्रहित किया जा सकता है तथा आवश्यकतानुसार इसमें सुधार किया जा सकता है । वर्तमान में इसका उपयोग मोबाइल फ़ोन में स्टाइलस के रूप में भी किया जाता है।

टच स्क्रीन (Touch Screen)

Touch Screen

टच स्क्रीन (Touch Screen) एक इनपुट डिवाइस  है। यह एक डिस्प्ले स्क्रीन होती हैजिसकी सहायता से स्क्रीन पर टच करके मेन्यू या किसी ऑब्जेक्ट का चयन किया जा सकता है। किसी User को कंप्यूटर की बहुत अधिक जानकारी न हो तो भी इसे सरलता से प्रयोग किया जा सकता है । टच स्क्रीन (Touch Screen) का प्रयोग आजकल रेलवे स्टेशनएअरपोर्टअस्पतालशोपिंग मॉलए.टी.ऍम. इत्यादि में होने लगा है।


बार-कोड रीडर (Barcode Reader)

What is Bar Code Reader in Hindi

बार-कोड रीडर (Barcode Reader) का प्रयोग किसी भी प्रोडक्ट के ऊपर छपे हुए बार कोड को पढ़ने के लिये किया जाता है। किसी प्रोडक्ट की जानकारी उस बार कोड के द्वारा प्राप्त की जा सकती है। बार-कोड रीडर (Bar code reader) के द्वारा उत्पाद की कीमत तथा उससे सम्बंधित दूसरी सूचनाओ को प्राप्त किया जा सकता हैं।


स्कैनर (Scanner)

what is scanner in hindi

स्केनर (Scanner) एक इनपुट डिवाइस है जिससे कंप्यूटर में किसी भी आकृति या टेक्स्ट को सीधे कम्प्यूटर में सेव करने किया जा सकता है। इसका मुख्य लाभ यह है कि किसी भी इमेज अथवा टेक्स्ट को डिजिटल फॉर्म में सेव किया जा सकता है। को सूचना टाइप नहीं करनी पड़ती हैं।

इमेज स्कैनर इमेज को एक इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करता हैजिसे कम्प्यूटर की मेमोरी में संग्रहित किया जा सकता है और एक सॉफ्टवेयर की सहायता से उसमें बदलाव किया जा सकता है। स्कैनर का एक अन्य उपयोग ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकग्नीशन (ओ.सी.आर.) हैजिसके द्वारा टाइप किए हुए या मुद्रित (printed) पेज की स्कैन कॉपी को टेक्स्ट में परिवर्तित किया जाता है ताकि उसे कम्प्यूटर पर संपादित (Edit) किया जा सके।

स्कैनर दो प्रकार के होते हैं - हैण्ड हेल्ड स्कैनर एवं फ्लैटबेड स्कैनर। हैण्ड हेल्ड स्कैनर का प्रयोग इमेज के ऊपर स्क्रॉल करके किया जाता है जबकि फ्लैटबेड स्कैनर में इमेज को स्कैनर के अन्दर ग्लास पर रख कर स्कैन किया जाता है।  

  

ओ.एम.आर. (OMR)

what is omr in hindi

ओ.एम.आर. (OMR) या ऑप्टिकल मार्क रीडर (Optical Mark Reader) एक ऐसा डिवाइस है जो किसी कागज पर पेन्सिल या पेन के चिन्ह की उपस्थिति और अनुपस्थिति को जांचता है इसमें ओ एम आर शीट पर प्रकाश डाला जाता है और परावर्तित प्रकाश को जांचा जाता है। जहाँ चिन्ह उपस्थित होगा कागज के उस भाग से परावर्तित प्रकाश की तीव्रता कम होगी। ओ.एम.आर. (OMR) उन  परीक्षा की उत्तरपुस्तिका को जाँचने के लिये प्रयोग की जाती है जिनमें वैकल्पिक प्रश्न होते हैं।

ओ.सी.आर. (OCR)

ऑप्टिकल कैरेक्टर रेकोग्निशन (Optical Character Recognition) अथवा ओ.सी.आर.(OCR) एक ऐसी तकनीक हैजिसका प्रयोग किसी विशेष प्रकार के चिन्हअक्षरया नंबर को पढ़ने के लिये किया जाता है। इन कैरेक्टर को ओ सी आर द्वारा पढ़ा जा सकता हैं। ओ.सी.आर (OCR) डिवाइस विभिन्न हुए कैरेक्टर्स को पहचान कर पढ़ लेता हैं। ओ.सी.आर (OCR) के फॉण्ट कंप्यूटर में संग्रहित रहते हैजिन्हें ओ.सी.आर. (OCR) स्टैंडर्ड कहते हैं। 

वर्तमान में ओ.सी.आर. सॉफ्टवेयर के द्वारा किसी भी स्कैन टेक्स्ट को रीड या सेव कर उसमें परिवर्तन किया जा सकता है।   

 

मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकोग्निशन  (MICR)

what is MICR hindi

मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकोग्निशन (Magnetic Ink Character Recognition) व्यापक रूप से बैंकिंग में प्रयोग होता हैजहाँ चेकों को चेक किया जाना होता है। इसे संक्षेप में एम.आई.सी.आर. (MICR) कहाँ जाता हैं। एम.आई.सी.आर (MICR) का प्रयोग चुम्बकीय स्याही (Megnatic Ink) से छपे कैरेक्टर को पढ़ने के लिये किया जाता हैं। यह मशीन तेज व स्वचलित होती हैं साथ ही इसमें ग़लतियाँ होने की सम्भावना बहुत कम होती है।

 

माइक्रोफ़ोन   (Microphone)  एवं वेब कैम (Web Cam)

इनपुट डिवाइस -  माइक्रोफोन
माइक्रोफोन कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं को अपने कंप्यूटर में ऑडियो इनपुट करने की अनुमति देता है। क्योंकि एक माइक्रोफोन एक कंप्यूटर को सूचना भेजता हैइसे एक इनपुट डिवाइस माना जाता है। उदाहरण के लिएजब एक माइक्रोफोन एक आवाज रिकॉर्ड करता हैतो ऑडियो कंप्यूटर को भेजा जाता है और कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव पर संग्रहीत होता है। एक बार रिकॉर्डिंग को ऑडियो फ़ाइल के रूप में संग्रहीत करने के बादइसे चलायासंपादित और शेयर किया जा सकता है।

 

वेब कैम (Web Cam)

वेब कैमरा हिंदी नोट्स
वेब कैमरा शब्द "वेब" और "वीडियो कैमरा" से मिलकर बना  है। वेबकैम का मुख्य उद्देश्य इन्टरनेट पर वीडियो प्रसारित करना है। वेबकैम आमतौर पर छोटे कैमरे होते हैं जो कंप्यूटर के मॉनिटर पर लगाए जाते हैं, अधिकांश वेबकैम यूएसबी के माध्यम से कंप्यूटर से कनेक्ट किए जाते हैं। लैपटॉप अथवा आल इन वन कंप्यूटर में वेब-कैम लगे हुए होते हैं। वेबकैम उपयोगकर्ता को ऑनलाइन मीटिंग, वीडियो रिकॉर्ड करने या वेब पर वीडियो स्ट्रीम करने की अनुमति देता है।